लव स्टोरीः आधी 2008 बाकी 2050

रेटिंग ***
-----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
हवा में उड़ती कारें, उंगली के इशारे पर काम करती घरों की दीवारे, आगे पीछे घूमते और हुक्म बजाते रोबोट और मीशीनी जिंदगी में कहीं पनपती एक लव-स्टोरी। यही है लव स्टोरी 2050 की कहानी। भई फिल्म का नाम 2050 है, लेकिन आधी फिल्म तो 2008 में ही गुजर जाती है।

स्टार कास्ट
हरमन बवेजा
प्रियंका चोपड़ा
बोमन इरानी
अर्चना पूर्ण सिंह
डायरेक्टर
हैरी बवेजा
शूटिंग लोकेशन
आस्ट्रेलिया, न्यू यार्क, मुंबई
वो भी मौजूदा मुंबईया स्टाइल लव स्टोरी में जिसमें प्रेमी हर रोज 'होने वाली प्रेमिका' के घर के चक्कर लगाता है, वो रोज डेट पर जाने के लिए मना करती है और फिर मान जाती है। लेकिन हैरी बवेजा ने इस बात को दो-तीन बार रिपीट करके तेजी से शुरू हुए पहले हाफ को कुछ ही देर बाद धीमा और बोर बना देता है। फिर भी अच्छी ओपनिंग, खास कर तेज़ रफ्तार पसंद करने वाले युवाओं को बांधने में कामयाब रहे हैं। हरमन बवेजा की एंट्री भी ठीक ठाक रही है। फिल्म की कहानी रुटीन लव स्टोरीज जैसी है, जिसमें पहले जन्म में प्रेमिका की मौत के बाद प्रेमी उसे ढूंढता फिरता है। बस इसमें नया ये है कि इस बार पुर्नजन्म की बजाए प्रेमी टाइम मशीन में बैठ कर 42 साल आगे चला जाता है। लेकिन घबराइए मत पहले हाफ से निराश होकर सिनेमा हाल छोड़ कर मत जाइए, दूसरे हाफ में फिल्म सब को चकित करती है। खास कर 2050 में कल्पित रोबो वल्र्ड हवा में उड़ती कारें, आसमान से उलटी लटक कर चलती ट्रेंन, वर्चुयल नियोन साइन बोर्ड और बोलते यूनीपोल, हवा में तैरती स्टेज के साथ ही मुंबई में हजारों मंजिली इमारतों के साथ ही समंदर में बनाए गए शीशे के घर आपको जरुर अकर्षित करेंगे। एडवांस दौर में हर काम में मदद करते रोबोट आपको काफी क्यूट लगेंगे। खास कर प्रिंयका चोपड़़ा का नन्हां पिंंक रोबो, जो उसके दिल में पनपते प्यार को न सिर्फ बखूबी समझता है, बल्कि हीरो के रोबो से सारी बातें शेयर भी करता है। हैरी बवेजा ने अपने बेटे को स्थापित करने के लिए स्क्रिप्ट और सक्रीन प्ले पर खास ध्यान दिया है। यहां तक कि खतरनाक ताकतों वाला विलेन उस पर हावी न हो उसके चेहरे को नकाब में ही रखा गया है। एक्टिंग की बात करें तो विभिन्न इमोशंस को एक्सप्रेस करने में हरमन काफी हद तक सफल रहें हैं, फिर भी उन्हें काफी मेहनत करनी होगी। जो लोग उनके चेहरे को ऋतिक रोशन से मिला रहे हैं, उन्हें हरमन में कुछ डिफरेंट देखने को मिलेगा। डांस, एक्शन, रोमांस, इमोशनल, ट्रेजेडी और कॉमेडी हर तरह के सीन फिल्म में उनके लिए खास तौर पर रखे गए हैं, शायद पापा हैरी साबित करना चाहते थे कि जूनियर बवेजा में पूरा फिल्मी मैटिरियल है। प्रियंका एतराज के बाद एक बार फिर काफी हॉट और सेक्सी लगी हैं। चाहे ड्रेसेस हों या सेकेंड हॉफ में 2050 की स्टाइल उनकी हर चीज में गलैमर देखने को मिला है। बोमन इरानी भी अपने किरदार को जी गए हैं। अर्चना पूर्ण सिंह भी ठीक ठाक लगी हैं। म्यूजिक के मामले में अनु मलिक इस बार भी निराश ही करते हैं। मीलों का फासला खास कर सैड वर्शन जरुर प्रभाव छोड़ता है। खैर सभी चीजों का गुलदस्ता सजा हैरी बवेजा का निर्देशन लोगों को बांधने में सफल रहा है, अगर वह पहले हाफ में थोड़ी कैंची चलाने का साहस दिखाते तो सक्रीनप्ले में और कसाव आता। विजय अरोड़ा और किरण दियोहंस की सिनेमेटोग्राफी भी फिल्म का साकारात्मक पक्ष है। खास कर आस्ट्रेलिया के समंदर के आस पास की लोकेशंस को उन्होंने खूबसूरती से फिल्माया है। ग्राफिक्स के पीछे नजर आता मुंबई भी उनके कैमरा वर्क को बखूबी दिखाता है। ग्राफिक्स के मामले में लव स्टोरी 2050 को बॉलीवुड में क्रांति कहा जा सकता है। अगर ऐसी फिल्में बनने लगे तो बॉलीवुड का हॉलीवुड करन होने में देर नहीं लगेगी। फिल्म युवाओं को तो जरुर आकर्षित करेगी, लेकिन उससे पहली पीढ़ी को दूसरे हाफ में वीडियो गेम्स पर आधारित फाइटिंग सीन्स शायद ही समझ आएं। फिल्म में एक और चीज काबिले जिक्र है वनिता उमंग कुमार का आर्ट, 2050 की तकनीकी दुनिया को उभारने में उनका आर्ट वर्क खास भूमिका निभाता ही है, उसमें भारतीय संस्कृति की छाप भी नजर आती है। खास कर प्रियंका चोपड़ा द्वारा कमरे का रंग गुलाबी करने वाले सीन में दीवारों पर लिखे श्लोकों में इसकी झलक मिलती है। पिक्चर अभी बाकी है दोस्त एक और सरप्राइज फिल्म में हरमन बवेजा का क्लोन भी देखने को मिलेगा, सो कम ऑन दोस्तो हरमन को हरमन से लड़ते देखते हैं।
-----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
रेटिंग चिन्ह---*पैसा बर्बाद/ **बस ठीक ठाक है/ *** पैसा वसूल/ ****जरूर देखें/ ****बेहतरीन

Deep Jagdeep

Deep Jagdeep Singh a is Poet, Columnist, Screen Writer, Lyricist and Film Critic. He writes in Punjabi, English and Hindi Google

1 comment:

  1. हेल्लो जनाब अच्छी समीक्षा है और भी समय से पहले, आज तो फ़िल्म आई ही है आपने तो पहले ही देख ली, इसे देखा सुना पर भी डालिए भाई

    ReplyDelete