जाने तू या जाने न

रेटिंग ****
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
आमीर खान युवाओं की नब्ज बखूबी पहचानते हैं और लेखक से निर्देशक बने अब्बास टायरवाला अभी खुद युवा हैं, इस लिए जाने तू या जाने न के जरिए उन्होंने टार्गेट ऑडियेंस को पूरी तरह से खुश कर लिया है।

स्टार कास्ट
इमरान खान
जेनीलिया
नसरुद्दीन शाह
रत्ना पाठक शाह
परेश रावल
सोहेल खान
अरबाज खान
डायरेक्टर
अब्बास टायरवाला

कहानी जय (इमरान खान) और अदिती (जेनीलिया) की है, जिनका पूरा फ्रेंड्स ग्रुप और पेरेंट्स मानते हैं कि वह एक दूसरे को प्यार करते हैं, लेकिन खुद उन्हें ही अहसास नहीं होता। फिर जय की जिंदगी में मेघना (मंजरी) और अदिती की जिंदगी में सुशांत (अयाज खान) आते हैं, तभी दोनों दोस्तों को दिल में छिपे प्यार का अहसास होता है। कहानी रुटीन है और क्लाइमेक्स भी कई फिल्मों में देखा हुआ। डिफरेंट है तो ट्रीटमेंट, सबसे बड़ी बात आमिर और अब्बास ने फिल्म को मेट्रो शहरों के आम युवा से सहजता से जोड़ा है। लव स्टोरी में पेरेंट्स-बेटी, मां-बेटा, भाई-बहन के रिश्ते पिसे नहीं हैं। यही वजह है कि हर युवा खुद को कहानी से रिलेट कर सकता है। इमरान पहली ही फिल्म में अदाकारी की पुख्तगी का अहसास करवाते हैं। जेनेलिया भी गहरी छाप छोड़ती हैं। दोस्तों के ग्रुप में अनुराधा पटेल, जयंत, अलिशका, निरव, कर्न, सुगंधा, प्रतीक, रेणुका सबने अपने किरदार को बखूबी जिया है। रत्ना पाठक शाह और नसरूद्दीन की केमिस्ट्री हम पांच की याद दिलवाती है। दोनों ही शानदार हैं। परेश रावल छोटे से किरदार में जोरदार हैं। सोहेल और अब्बास जरुर इरीटेट करते हैं। एआर रहमान के दो गाने पप्पू को डांस नहीं आता और कहो न कहो पहले ही हिट हो चुके हैं।
----------------------------------------------------------------------------------------------------------------
रेटिंग चिन्ह---*पैसा बर्बाद/ **बस ठीक ठाक है/ *** पैसा वसूल/ ****जरूर देखें/ ****बेहतरीन

Deep Jagdeep

Deep Jagdeep Singh a is Poet, Columnist, Screen Writer, Lyricist and Film Critic. He writes in Punjabi, English and Hindi Google

0 comments: